आईएसएल-5 : साउथ इंडियन डर्बी में सामने-सामने होंगे ब्लास्टर्स, चेन्नइयन

5
साभार

कोच्चि : हीरो इंडियन सुपर लीग (आईएसएल) के पांचवें सीजन में साउथ इंडियन डर्बी में शुक्रवार को यहां जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम में मेजबान केरला ब्लास्टर्स का सामना मौजूदा चैम्पियन चेन्नइयन एफसी से होगा। दोनों टीमें प्लेऑफ की दौड़ से बाहर हो चुकी हैं और इस लिहाज से दोनों केवल सम्मान के लिए जीत हासिल करना चाहेंगी। ब्लास्टर्स के नए कोच नीलो विंगाडा अभी तक अपनी देखरेख में टीम को जीत नहीं दिला पाए हैं और अब जबकि उनका सामना अंक तालिका में सबसे नीचे खड़े चेन्नइयन से होने जा रहा है, तो वह भी घर में इस सीजन की पहली जीत दर्ज करना चाहेंगे। विंगाडा की देखरेख में ब्लास्टर्स ने एटीके और बेंगलुरू के खिलाफ ड्रॉ खेला है जबकि दिल्ली डायनामोज के हाथों उसे हार मिली है। केरल को इस सीजन में अब तक सिर्फ एक जीत मिली है और यह टीम 14 मैचों से जीत के लिए तरस रही है। इससे केरल के घरेलू दर्शकों का मैदान पर आना भी काफी कम हो गया है।

चेन्नई के कोच जॉन ग्रेगोरी को इससे कोई शिकायत नहीं। वह तो इसे कुछ अलग तरह से ले रहे हैं। इस मैच से पहले ग्रेगोरी ने कहा, “मैं तो चाहू्ंगा कि स्टेडियम खाली रहे। केरल को बीते सीजन में जिस तरह का समर्थन मिला था, वह वाकई हैरान कर देने वाला था। मेरा यकीन कीजिए। मैं अपने घरेलू मैचों में इसी तरह के समर्थन की चाह रखता हूं। मेरी समझ में यह नहीं आता कि इतना जबरदस्त समर्थन होते हुए केरल की टीम अब तक आईएसएल खिताब क्यों नहीं जीत सकी है।”

केरल की टीम को इस सीजन गोल करने में दिक्कतों का सामना करना पड़ा है और यही उसकी बुरी दशा का कारण है। यह टीम अब तक सिर्फ 15 गोल कर पाई है। स्लाविसा स्टोजानोविक ने इस टीम के लिए सबसे अधिक चार गोल किए हैं। इससे पता चलता है कि बाकी के गोल स्कोर्स की नाकामी ही इस टीम पर भारी पड़ी है। इसे लेकर विंगाडा ने कहा, “अगला मैच हमेशा काफी अहम और चुनौतीपूर्ण होता है। तीन मैचों के बाद आप कुछ हद तक चीजों को संतुलित होते हुए देख रहे होते हैं। अब हमें यह सुनिश्चित करना होगा कि हमारी टीम आगे जाए। हमने अभ्यास में काफी वक्त बिताया है और खिलाड़ी मेरी शैली के बारे में काफी कुछ जान चुके हैं।”

चेन्नई की टीम केरल को उसी के घर में हराकर खुद को अंक तालिका में थोड़ा ऊपर लाने का प्रयास करेगी। अभी यह टीम 10 टीमों की तालिका में सबसे नीचे है। उसका खिताब की रक्षा का अभियान कबका खत्म हो चुका है और अब उसके सामने सम्मान बचाने की चुनौती है। चेन्नई के लिए अच्छी खबर यह है कि तीन मैचों के निलंबन के बाद कप्तान मेलसन अल्वेस अब टीम में वापसी कर रहे हैं।

ग्रेगोरी ने अपनी टीम को लेकर कहा, “हर को प्रेरित है। हमें अपने अगले तीन मैचों से नौ अंक लेने हैं और एक ऐसे स्थान पर रहते हुए सीजन का समापन करना है, जहां से हमे कुछ खुशी मिल सके।”

इस सीजन में चेन्नई को 11 मैचों में हार मिली है। हाल ही में चेन्नई की टीम ने बेंगलुरू को उसके घर में 2-1 से हराया था और इससे उसके खिलाड़ियों का मनोबल काफी ऊंचा है। अब ये खिलाड़ी केरल को हराकर अपनी टीम को तीन अंक दिलाने का प्रयास करेंगे। हालीचरण नारजारे और सीके विनीत अपनी पुरानी टीम के खिलाफ पहली बार खेलेंगे। शीतकालीन ब्रेक के दौरान इन दोनों को केरल ने लोन पर चेन्नई भेज दिया था। चेन्नई के स्टार जेजे पर भी सबकी नजरें होंगी क्योंकि उन्होंने बेंगलुरू के खिलाफ गोल किया था और अब वह खराब दौर से उबरते हुए दिख रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here