दीपक, मंजीत ने पूरी की मोनू की कमी : प्रदीप नरवाल

2

नई दिल्ली : वीवो प्रो-कबड्डी लीग (पीकेएल) के पिछले सीजन में रेडर मोनू गोयत ने कप्तान प्रदीप नरवाल के साथ कदम से कदम मिलाते हुए अपने लिए नया मुकाम हासिल किया था लेकिन तीन बार की चैम्पियन पटना पाइरेट टीम ने मोनू को रीटेन नहीं किया। अब वह हरियाणा स्टीलर्स के कप्तान हैं।

मोनू को हरियाणा ने 1.51 करोड़ रुपये में खरीदा। वह पीकेएल इतिहास के सबसे महंगे खिलाड़ी बन गए। मोनू और विशाल माने (डिफेंडर) के जाने से पटना को जो नुकसान हुआ है, वह सीजन-6 में साफ दिखाई दे रहा है लेकिन कप्तान नरवाल मानते हैं कि बीते सीजन बंगाल वॉरियर्स के लिए खेले दीपक नरवाल और मंजीत ने मोनू की कमी को पूरा किया है। प्रदीप ने आईएएनएस के साथ साक्षात्कार में यह बात कही।

मोनू के दूसरी टीम में शामिल होने से एक बार फिर टीम को अकेले संभालने के बारे में पूछे जाने पर कबड्डी के ‘डुबकी किंग’ माने जाने वाले प्रदीप ने कहा, “मोनू जैसे खिलाड़ी के टीम से जाने से फर्क पड़ता है। वह मेरी ही तरह एक अच्छा रेडर बन गया था लेकिन दुर्भाग्य से वह इस सीजन में किसी दूसरी टीम के साथ खेल रहे हैं। इसकी मुझे निराशा जरूर है लेकिन परेशानी नहीं है।”

कबड्डी विश्व कप की स्वर्ण पदक विजेता टीम के खिलाड़ी प्रदीप ने कहा, “टीम में अब दो नए खिलाड़ी शामिल हुए हैं-दीपक और मंजीत। ये दोनों रेडर अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं और उसी प्रकार मेरा समर्थन कर रहे हैं, जैसे मोनू किया करते थे। इसलिए, इन दोनों के टीम में होने से मुझे मोनू की कमी बहुत अधिक नहीं खल रही है।”

पटना जोन-बी में बेंगलुरू बुल्स, बंगाल वॉरियर्स, तेलुगू टाइटंस, तमिल थलाइवाज और यूपी योद्धा के साथ शामिल है। वह 46 अंकों के साथ बेंगलुरू से आठ अंक पीछे दूसरे स्थान पर है। इस बार टीम के खिताब बचाने की संभावनाओं के बारे में प्रदीप ने कहा, “निश्चित तौर पर इस बार भी हम खिताब तक पहुंचेंगे। हमने अपने पिछले छह मैचों में से चार में जीत हासिल की है और एक मैच ड्रॉ रहा है। हमारी कोशिश इसी प्रकार आगे बढ़ते रहने की है, ताकि हम अपना खिताब बचा पाने में सफल रह सकें।”

प्रदीप ने इस बार लीग के इस सीजन में 300 रेड अंक हासिल करने का लक्ष्य रखा है। हालांकि, वह इस लक्ष्य से 142 अंक दूर हैं। प्रदीप ने अपने 16 मैचों में अभी तक 159 रेड अंक हासिल किए हैं। प्रदीप ने कहा, “मैंने इस सीजन में 300 रेड अंक हासिल करने का लक्ष्य रखा था। हालांकि, बीच में मुझे चोट लग गई थी लेकिन मैं अपने लक्ष्य से पीछे नहीं हट रहा हूं। मैं इसे हासिल करने की कोशिश करूंगा।” पटना के कप्तान प्रदीप एकमात्र ऐसे खिलाड़ी हैं, जिन्होंने लगातार दो बार चौथे और पांचवें सीजन में लीग के सबसे मूल्यवान खिलाड़ी का पुरस्कार अपने नाम किया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here