डिफेंस को अपनी कमजारी नहीं बनने देंगे : प्रदीप नरवाल

24
साभार

पटना : वीवो-प्रो कबड्डी लीग (पीकेएल) इतिहास में सफलतम रेडरों में से एक मौजूदा विजेता पटना पाइरेट्स के कप्तान प्रदीप नरवाल ने लीग के छठे सीजन में टीम की खराब शुरुआत का कारण कमजोर डिफेंस को बताया है। लीग में खिताबी हैट्रिक लगाने वाली पटना ने इस सीजन में अब तक खेले गए सात में से तीन मैचों में जीत हासिल की और चार मैचों में उसे हार मिली है। ऐसे में खिताब बचाने की उसकी मुहिम खतरे में पड़ती दिखाई दे रही है लेकिन कप्तान का मानना है कि वक्त के साथ उनकी टीम अपनी कमियों पर विजय पाकर खिताब बचाने में सफल होगी। पटना टीम ने अब तक कुल 17 अंक हासिल किए हैं और जोन-बी में में वह तीसरे स्थान पर है।

‘डुबकी किंग’ के नाम से मशहूर प्रदीप ने आईएएनएस के साथ साक्षात्कार में कहा, “इस सीजन में हमारा डिफेंस कमजोर है, जिसके चलते रेडर भी अंक नहीं बना पा रहे हैं। कभी डिफेंस कमजोर पड़ रहा है तो कभी रेडिंग। मुझे लगता है कि हमारे खराब प्रदर्शन की यही एक वजह है। हालांकि, उम्मीद है टीम समय के साथ इसमें सुधार करेगी।”

उन्होंने कहा, “पिछली बार हम इसलिए जीते क्योंकि डिफेंस के साथ हमारे रेडरों ने भी अच्छा किया था। जब डिफेंस अच्छा खेलेगा तो रेडर खुद ही अच्छा करेंगे। इस बार इनके असफल रहने से टीम उम्मीदों के अनुरूप प्रदर्शन नहीं कर पा रही है। हालांकि, अभी लीग में काफी मैच बचे हैं और धीरे-धीरे हमारा डिफेंस जम रहा है। हम आगे अच्छा करने की कोशिश करेंगे।”

21 वर्षीय प्रदीप ने पीकेएल के दूसरे सीजन में बेंगलुरु बुल्स के साथ लीग में पदार्पण किया था। इसके बाद वह तीसरे सीजन से अब तक पटना टीम के लिए खेल रहे हैं। वह पिछले सीजन में पटना के कप्तान बने थे। उन्होंने लीग के छठे सीजन के सात मैचों में अब तक 88 अंक हासिल किए हैं । अपनी कप्तानी में पिछली बार पटना को विजेता बनाने वाले प्रदीप ने इस लीग में 71 मैचों में कुल 720 अंक हासिल किए हैं। लीग में सबसे अधिक अंक हासिल करने का रिकार्ड तेलगू टाइटंस के राहुल चौधरी के नाम है। उनके नाम 84 मैचों में 746 अंक हैं।

पटना चरण शुरू होने से पहले कोच राम मेहर सिंह ने कहा था कि इस बार उनकी टीम नए संयोजन के साथ खेलेगी। इस पर प्रदीप ने कहा, “इन्हीं खिलाड़ियों में से संयोजन बनाया जाएगा क्योंकि खेलना तो इन्ही खिलाड़ियों को है। कोई बाहर से आकर तो खेलेगा नहीं। हम इन्हीं खिलाड़ियों में से नए संयोजन तलाश रहे हैं।”

पटना टीम के कप्तान ने घरेलू दर्शकों के सामने दबाव में आने कि किसी भी संभावनाओं को खारिज करते हुए कहा, “नहीं, ऐसा कुछ नहीं है। दबाव लेकर तो कोई खेलता भी नहीं है और ना ही उनसे खेला जाएगा। इस बार पता नहीं क्या हो रहा है। देखते हैं इस चरण के बाद नोएडा चरण में हम अभ्यास करेंगे और फिर मुंबई में जरूर वापसी करेंगे।” प्रदीप 2016 में कबड्डी विश्व कप विजेता, 2017 में एशियाई कबड्डी चैम्पियनशिप विजेता और 2018 में दुबई कबड्डी मास्टर्स विजेता के साथ-साथ इस साल एशियाई खेलों में कांस्य पदक जीतने वाली भारतीय टीम का हिस्सा रह चुके हैं।

ऐसे में अब तक कबड्डी करियर में सबसे यादगार पल के बारे में पूछे जाने पर प्रदीप ने कहा, “जब मुझे पता चला कि मैं प्रो कबड्डी लीग में खेलने के लिए चुना गया हूं, वह मेरे अब तक के करियर का सबसे यादगार लम्हा है। लीग में खेलने के बाद मुझे सभी जानने लग गए। इसके अलावा बड़े-बड़े खिलाड़ियों के साथ खेलने का मौका मिला। उनसे बहुत कुछ सीखने को मिला जो मेरे खेल के लिए सही है।” प्रदीप ने पटना पाइरेटस के आगे की रणनीतियों के बारे में कहा, “पटना चरण के बाद नोएडा चरण में हमारा कोई मैच नहीं है, लेकिन हम वहां जाएंगे क्योंकि वहां हमारा अपना मैट है, जहां पर हम अभ्यास करेंगे और मुंबई में खेले जाने वाले चरण की अच्छी से तैयारी करेंगे।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here