एडिलेड टेस्ट : भारत को 15 साल बाद मिली जीत

14
साभार

एडिलेड : एडिलेड ओवल मैदान पर 2003 में मिली जीत को दोहराते हुए भारतीय टीम ने 15 साल का सूखा समाप्त कर सोमवार को आस्ट्रेलिया के खिलाफ इसी मैदान पर विराट कोहली की कप्तानी में मेजबान टीम के खिलाफ फिर जीत हासिल की। भारत ने आस्ट्रेलिया को सोमवार को 31 रनों से हरा दिया। इस जीत के साथ मेहमान टीम ने आस्ट्रेलिया के खिलाफ चार टेस्ट मैचों की सीरीज में 1-0 की बढ़त हासिल कर ली है।

अपनी दूसरी पारी के आधार पर भारतीय टीम ने आस्ट्रेलिया को 323 रनों का लक्ष्य दिया था और आस्ट्रेलिया लगभग इस लक्ष्य को हासिल कर लेती लेकिन भारतीय गेंदबाजों ने 291 रनों पर मेजबान टीम की पारी को समाप्त कर भारत को 31 रनों से ऐतिहासिक जीत दिलाई।

अपने करियर का छठा टेस्ट मैच खेलने वाले भारतीय विकेटकीपर ऋषभ पंत ने एक मैच में विकेटकीपर के तौर पर सबसे अधिक कैच पकड़ने के मामले में इंग्लैंड के जैक रसेल और दक्षिण अफ्रीका के खिलाड़ी अब्राहम डिविलियर्स की बराबरी कर ली है। पंत ने इस मैच में विकेटकीपर के तौर 11 कैच पकड़े हैं और ऐसे में रसेल और डिविलियर्स की बराबरी कर तीसरे स्थान पर पहुंच गए हैं। रेसल ने 1995 और डिविलियर्स ने 2013 में इतने की कैच पकड़ विश्व रिकॉर्ड कायम किया थाए जिसकी बराबरी अब पंत ने भी कर ली।

इसके साथ ही भारत एशिया की दूसरी टीम हैए जिसने किसी टेस्ट सीरीज में आस्ट्रेलिया के खिलाफ पहले टेस्ट मैच में जीत हासिल की है। इससे पहले पाकिस्तान ने 1978-79 में ऐसा किया था। इसके अलावाए भारत को पहली बार आस्ट्रेलिया में खेली गई टेस्ट सीरीज के पहले मैच में जीत हासिल हुई है।

आस्ट्रेलिया ने भारत की ओर से मिले 323 रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए रविवार को चौथे दिन का खेल समाप्त होने तक अपनी दूसरी पारी में चार विकेट के नुकसान पर 104 रन बनाए थे। इसके बादए पांचवें दिन सोमवार को इस पारी को आगे खेलने उतरी आस्ट्रेलिया ने पहले सत्र में दो और विकेट गंवाकर अपने खाते में 82 रन जोड़े। पहले सत्र में उसने ट्रेविस हेड (14) और शॉन मार्श (60) के रूप में अपने दो विकेट गंवाकर 186 रनों का स्कोर बनाया। उसे जीत के लिए अब 137 रनों की जरूरत थी।

भारतीय टीम को जीत के लिए दूसरे सत्र में आस्ट्रेलिया के बाकी बचे चार विकेट अपने नाम करने थे और वह ऐसा करने में सफल भी हुई लेकिन उसे थोड़ी मेहनत भी करनी पड़ी। दूसरे सत्र में आस्ट्रेलिया टीम के निचले क्रम के बल्लेबाजों ने अच्छा प्रदर्शन किया। टिम पेन (41) और पैट कमिंस (28) ने 31 रन जोड़कर टीम को 187 के स्कोर तक पहुंचाया। इसी स्कोर पर जसप्रीत बुमराह ने पेन को ऋषभ पंत के हाथों कैच आउट कर पवेलियन भेजा।

पेन के आउट होने के बाद कमिंस का साथ देने आए स्टॉर्क (28) ने आठवें विकेट के लिए 41 रन जोड़े और टीम को जीत के करीब पहुंचाने की कोशिश की लेकिन मोहम्मद शमी ने यहां टीम को बड़ा झटका दिया। शमी ने स्टॉर्क को 228 के स्कोर पर पवेलियन की राह दिखाई। वह विकेट के पीछे खड़े पंत के हाथों लपके गए। भारत को जीत के लिए अब दो विकेट चाहिए थे।

यहां कमिंस ने नाथन ल्योन (38) के साथ भारतीय टीम के गेंदबाजों को थोड़ा परेशान किया। हालांकि, भारतीय गेंदबाज सफलता हासिल करते हुए 259 के स्कोर पर टीम कमिंस का विकेट गिराने में सफल रहे।कमिंस को बुमराह ने कोहली के हाथों कैच आउट कर पवेलियन भेजा।

भारत को ऐतिहासिक जीत के लिए अब केवल एक विकेट की जरूरत थी लेकिन ल्योन ने इस जीत को आसान नहीं होने दिया। वह किसी तरह संभलकर बल्लेबाजी करते हुए आस्ट्रेलिया को लक्ष्य तक पहुंचाने की कोशिश में थे और वह ऐसा करने में सफल भी हो जाते।

ल्योन ने जोश हेजलवुड (13) के साथ 32 रन जोड़कर टीम को 291 के स्कोर पर पहुंचा दिया था और आस्ट्रेलिया को जीत के लिए 31 रनों की दरकार थी लेकिन इसी स्कोर पर अश्विन ने हेजलवुड का विकेट लेकर भारत को जीत दिलाई। वह लोकेश राहुल के हाथों लपके गए। आस्ट्रेलिया की पारी 291 रनों पर समाप्त हो गई। इस पारी में भारत के लिए अश्विनए बुमराह और शमी ने तीन-तीन विकेट लिएए वहीं इशांत को एक सफलता मिली।

भारत के लिए बल्लेबाजी में चेतेश्वर पुजारा ने अहम भूमिका निभाई। उन्होंने पहली पारी में 123 और दूसरी पारी में 71 रनों का स्कोर बनाया और उन्हें प्लेयर ऑफ द मैच का पुरस्कार से नवाजा गया। इसके अलावाए दोनों पारियों में अश्विन और बुमराह ने छह.छह विकेट लिए। आस्ट्रेलिया और भारत के बीच सीरीज का दूसरा टेस्ट मैच पर्थ में 14 दिसम्बर से खेला जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here